Friday, March 3, 2017

सपनों का मरना... इच्छाओं के मरने से ज्यादा खतरनाक है।।

सपनों का मरना... इच्छाओं के मरने से ज्यादा खतरनाक है।।





मसला ये नहीं है के दर्द
कितना है,
मुद्दा ये है कि परवाह
किसको है....!!


No comments:

Post a Comment