Wednesday, May 26, 2010

क्या आज किसी के चेहरे पर मुस्कान बिखेरी आपने??

'' घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें किसी रोते  हुए बच्चे को हंसाया जाये'' निदा फाजली साहब की ये शायरी किसी को भी एक बार सोचने पर मजबूर कर सकती है. इस दौड़ भाग भरी ज़िन्दगी में किसी को दूसरों का हाल चाल लेने तक की तो फुर्सत है नहीं, आखिर कोई किसी की परवाह क्यूँ करे??
आज हर कोई एक दूसरे से आगे निकालने के चक्कर में मदद करना तो दूर उसकी मुश्किलें बढ़ाने में भी पीछे नहीं रहता. वहीँ कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके लिए दूसरों कि ख़ुशी ही अपनी ख़ुशी है ओर दूसरे का गम उनका गम. आप लोगों को लग रहा होगा कि आज मैं कोई बहुत बड़ा लेक्चर देने के मूड में हूँ. लेकिन खुश हो जाइये मैं ऐसा कुछ भी नहीं करने वाली. आज मैं लोगों कि ख़ुशी के बारे में बात करने जा रही हूँ.
कहा जाता है मुस्कराहट एक ऐसी भाषा है जिसे संसार का हर व्यक्ति समझ सकता है. कितनी भी बड़ी परेशानी हो किसी भी छोटे बच्चे की  मुस्कराहट के आगे कुछ भी मायने नहीं रखता.उसकी खिखिलाती हंसी सुनकर सारी चिंता कुछ देर के लिए बहुत दूर चली जाती है.
ट्राफिक में गाड़ी फंसी हो, हर तरफ से  होर्न की आवाज़ आ रही हो, चिलपों मची हो तो टेंशन मत लीजिये. एक बार गाड़ी के शीशे में अपनी शकल देख लीजिये आपको खुद ही हंसी आ जाएगी. उसके बाद आपको जाम में फंसे होने कि चिंता भी नहीं सताएगी.
सबसे ज्यादा मजा तब आता है जब कोई आपको फ़ोन करे ओर पूछे कहाँ से बोल रहे हो? इट्स वैरी नेचुरल हर कोई मुह से ही बोलता है.... to be continued....


शेष भाग...
कोई कितना भी परेशान हो उससे एक बार परेशानी के बारे में पूछ के तो देखिये..भले ही वो व्यक्ति कुछ बताये या न बताये, कम से कम थोड़ी देर के लिए वो अच्छा महसूस करेगा. इसी तरह अगर किसी को बिना किसी बात के हँसाना हो तो उसे कहिये कि तुम मेरे पांच गिनने तक हंस दोगे फिर गिनती गिनना शुरू कर दीजिये ..सामने वाले को शर्तिया हंसी आ ही जाएगी.
कई बार आपको हंसते हुए देखकर भी दूसरों को भी हंसी आ जाती है इसलिए आप खुश रहिये ओर दूसरों को भी खुश रखने कि कोशिश करिए.
कुछ लोगों को देखकर टेंशन अपने आप ही दूर होने लगता है.. जैसे छोटे बच्चे, आपका बेस्ट फ्रेंड, कॉमेडी शो, कोई अच्छा सा गार्डेन खूब सारे फूलों वाला, गाँव के झूलों पर पींगे बढ़ाते बच्चे ओर महिलाएं, दादी माँ कि पोपली हंसी, और ... हाँ!! भाई को परेशान करने से अच्छा टेंशन बूस्टर तो कुछ हो ही नहीं सकता हा हा हा हा!!! इस ब्लॉग तो मेरा भाई पढ़ेगा तो.....
खैर आगे बढते हैं... बात हो रही थी खुश रहने और दूसरों को भी खुश रखने की.. कई बार थोड़ी बहुत शैतानी करने से भी सामने वाले को ख़ुशी मिलती है यहाँ पर मेरा मतलब बातों की शैतानी से है..
 कुछ ऐसा बोलिए कि लोग हंसने पर मजबूर हो जाएँ लेकिन इस बात का भी ख्याल रखिये कि सामने वाले के दिल को कोई ठेस न पहुंचे क्यूंकि कई बार लोग हंसने हंसाने के चक्कर में इस बात को भूल जाते हैं कि उनकी बात किसी को चोट भी पहुंचा सकती है.. इसलिए जो भी कहिये जैसे भी हंसाने की  कोशिश करिए इस बात का ध्यान जरूर रखिये..
आखीर में इतना ही कहूँगी

'' DO ALL THE GOOD YOU CAN, TO ALL THE PEOPLE YOU CAN, AT ALL THE PLACES YOU CAN, IN ALL THE WAYS YOU CAN''
(DO GOOD, FEEL GOOD)
तो क्या आज आप किसी को फील गुड करायेंगे ??? :)


27 comments:

  1. क्या आप को किसी ने बहुत दुखी होने पर मुस्कराहट दी है

    HS

    ReplyDelete
  2. Jigar ab to woh bhi yeh kahte hain mujhse,
    Tere naaz uthane ko jee chaahta hai!

    ur artical is so sweet just like ur smile. good job! u r learning people how to smile n when smile. keep ur smile always

    ReplyDelete
  3. bahut khoob jille-elahi, aapne to vakai dhamal kar diya...is gareebdas ki pukar itni jaldi sun li... aaj is blog k dar se niraash hokar nahi lautna pad raha hai... sahi maayno me aajkal logo ki hansi hi to kho gayi hai... or aap use vapas laane ka behtareen upay bata rahi hai...aapko meri taraf se hardik bhadai...

    ReplyDelete
  4. ap sabka bahut shukriya. HS ji se kehna chahungi ki mere articles jeevan ki sachchai se jude hotey hain. Kai mod par logon ko support dene se hi unhey khushi mil jati hai, yadi aisa hota hai to humen unki khushi ke liye itna to karna hi chahiye. Mainey bhi kiya hai...kai doston ke saath... jab unhey iski sakht jaroorat thi... :)

    ReplyDelete
  5. HS ji, mujhey bhi dukhi honey par doston ka support mila hai. And i thank GOD for this. Shayad unhi ki prerna se main blog par kuch na kuch naya likhney ka prayas ker ap logon ke chehrey par thodi der ke liye smile la pati hun... :)

    ReplyDelete
  6. Good one Ever-Smiling Bond Keep it up :)

    ReplyDelete
  7. kafi achcha likha hai aapne, ye sach hai ki paresanio ke daur me yahi baate hamesha yaad aati hai or insaan ki takleefo ko door karti hain. story ka baki part bhi jaldi likh dijiye. m waiting...

    ReplyDelete
  8. gud hai ji... kosis karenge kisi ke chehare par hasi la sake...

    ReplyDelete
  9. u give nice tricks to make smile when someone angry, punching lines do good feel good, nice gud job

    ReplyDelete
  10. This is true that one should create their own happiness and also have moral responsibility make other happy.

    Khushi say khushi badti hai..

    ReplyDelete
  11. क्या कभी किसी को पल भर की खुशी देने से उसका गम दूर हो सकता है, अगर नहीं तो क्या हमे उस के दुःखी होने की वजह को दूर नहीं करना चाहेये.

    अच्छ कोशिश है लगे रहो..

    HS

    ReplyDelete
  12. Life is a succession of lessons which must be lived to be understood.

    ..

    ReplyDelete
  13. Ya you are very right Deepti..

    Some one Said..

    Think happy thoughts..
    The easiest way to a great smile is to be happy..
    You can be happy all the time,
    but not everybody is; when you are not, you can think happy thoughts instead.
    Think about something or someone that you care about, or think about a joke that you just find hilarious.
    Remarkably, when you're feeling down, smiling can help cheer you up, even if you have to coax a smile out at first.

    ..

    ReplyDelete
  14. apka article kafi acha hai. main apka article jab padh rahi thi to mere chehre per ek automatic smile thi.thanks for making me happy. keep writing

    ReplyDelete
  15. Well said..

    In todays world we simply dont smile enough. By making someone smile you will make a good friend.

    dost

    ReplyDelete
  16. 2 chijo se bani he ye Duniya "thodi himmat,thoda dum" 2 lamho se bani he ye jindagi "thodi khushi,thode gum"


    ..

    ReplyDelete
  17. आप के आर्टिकल में आप की दिल की सचाई साफ ज़लकती है.

    keep it up !!

    ReplyDelete
  18. hello jille-ellahi, nayi story kab plan ho rahi hai? m waiting...

    ReplyDelete
  19. दीप्ति जी,
    काफी अच्छा लिखती हैं आप। पहला विषय पढ़ा। एक मासूम बच्चे से बिना बात किये उसकी अनकही बातों को समझना अपने आप में एक कला है। बच्चे वाकई में भगवान का रूप होते हैं। आखिर आंखें भी दिल की जुबान होती हैं। दूसरा विषय, बच्चों में बढ़ रही कुरीतियो के प्रति आपका लोगों को जागरूक करना एक बेहतरीन कदम है। आप इस तरह के सराहनीय कार्य करती रहिए। इससे समाज में फैली बुराइयों के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ेगी। अब आपके तीसरे विषय पर बात करना चाहूंगा। मुस्कान एक ऐसा विषय है, जिस पर जितना कहा जाए कम है। दुनिया की एक ऐसी अनोखी चीज जो अनमोल है पर सबको लूट लेती है। हर इंसान कोशिश करता है मुस्कुराने की लेकिन आज की दुनिया में हंसी बहुत महंगी हो गई है और सब इसका जादुई असर भूलते जा रहे हैं। आजकल कोई जबर्दस्ती मुस्कुराता है तो कोई दूसरो की मुस्कान छीनने की कोशिश करता है। इनमें सलाह देने वाले भी पीछे नहीं रहते। आपसे जितनी बात की और आपकी लेखनी आपके बारे में काफी कुछ कहती है। भगवान से दुआ करूँगा कि आप हमेशा लोगों के बीच ऐसे ही खुशियां बिखेरती रहें। आपकी वजह से किसी आंखों में आंसू न आएं। कभी लखनऊ आया तो आपसे जरूर मिलूंगा। बाकि बाद में...
    - राहुल अवस्थी

    ReplyDelete
  20. हर मुस्कराहट के पीछे मुस्कराने वाले का सच छुपा होता है पर यह इस बात निर्भर करता है देखने वाला उस को किस नजर से देखता है | अगर देखने वाला खुद दुखी है तो उस को मुस्कराने वाला कितना भी मुस्कराता हो उसको उसकी मुस्कराहट के पीछे दुःख ही नजर आयेगा | खुद खुश रहने वाला हमेशा खुश तो रहेता ही है और दुसरो को भी खुश रखता है |
    ये सब अपनी अपनी सोच का फारख है
    So Keep smiling सोचने वाले को सोचने दो.....

    ..

    ReplyDelete
  21. Nida Fazli ji ke to hum bhi fan hai,contemporary urdu poetry ke shshkt hastakshar hai vo:
    muskrahat ko aapne jo paribhashit kiya hai i like it and its true too :
    मुस्कराहट एक ऐसी भाषा है जिसे संसार का हर व्यक्ति समझ सकता है. कितनी भी बड़ी परेशानी हो किसी भी छोटे बच्चे की मुस्कराहट के आगे कुछ भी मायने नहीं रखता.
    happy blogging
    with regards

    ReplyDelete
  22. jindagi me sada muskurana sambhav nahi jo log sada muskurate hain ve khud ko dhokha dete hain

    ReplyDelete
  23. @Mr. jindagi me sada muskurana sambhav nahi jo log sada muskurate hain ve khud ko dhokha dete hain.

    kyu possible word ki mahatta ko khatam kar rahe hain. insaan jo chah jaaye vo sab kuch sambhav hain mahodaya. Is dunia me asambhav kuch bhi nahi dost. ye blogger bhi to sada muskuraane ki baat batata hai. gam to aate jaate hain lekin har haal me khus rahna to hamare hath me hai dost.

    ReplyDelete
  24. पीछे मुड़कर देखने व अफसोस करने की जरूरत नहीं है क्योंकि ज़िंदगी में कभी भी कुछ भी पीछे नहीं छूटता। न खुशियां, न अवसर, न चुनौतियां। वे भेष बदलकर सामने आती रहती हैं। देखिए तो सही, पहचानिए तो सही।
    Keep smiling..

    ..

    ReplyDelete